Monday, July 16, 2012

सच


 
कविता लिखना आसान है
समझाना उस से ज़रा ज्यादा मुश्किल
और जीना?
बहुत कठिन है साथी
कविता को जीना बहुत कठिन है!