Thursday, April 23, 2015

झूठ चमक से हारा दिन

झूठ-चमक से हारा दिन
कैसा है अंधियारा दिन

कभी खुद्क़ुशी कर लेगा
विदर्भ-सा बेचारा दिन 

नई कविताएँ